नववर्ष के आगमन पर मंगलकामना – सर्वे भवन्तु सुखिनः …

wishes-for-2009

वर्ष २००९ का आगमन हो चुका है । पिछले वर्ष सारा विश्व आर्थिक मंदी से जूझता रहा, तो अपना देश उसके साथ आतंकी वारदातें भी झेलता रहा । आशा करें कि वे सब घटनाएं इतिहास की बातें बन कर रह जायेंगी और आने वाला समय कल्याणकारी सिद्ध होगा । नववर्ष के आगमन पर मुझे इस वैदिक सूक्ति का स्मरण हो आता है:

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया ।
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःखभाग् भवेत् ।।

(सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें, और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े ।)

वैदिक साहित्य में मंत्रों के रूप में प्रार्थनाओं की बहुतायत है । प्रश्नोपनिषद् में अधोलिखित प्रार्थना के वचन देखने को मिलते हैं:

ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवाः भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः ।
स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः ।।
स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः ।
स्वस्ति नस्तार्क्ष्योऽरिष्टनेमिः स्वस्ति नो वृहस्पतिर्दधातु ।।

(प्रश्नोपनिषद्, ग्रंथारंभ की प्रार्थना)
(ॐ – अर्थात् ईश्वरीय शक्ति तथा उसकी सृष्टि के स्मरण के साथ – हे देवगण, हमारी प्रार्थना है कि परमात्मा के यजन/आराधन में लगे हुये हम कानों से कल्याणमय वचन सुनें; कल्याणकारी दृश्य ही देखें; स्वस्थ अङ्गों एवं शरीर से स्तुति करते हुए आराध्यदेव के कार्य में उपलब्ध आयु का उपभोग करें ।
सर्वत्र फैले यश वाले इंद्र हमें कल्याण प्रदान करें; संपूर्ण विश्व का ज्ञान रखने वाले पूषा/सूर्य हमारा कल्याण करें; अरिष्टों/रोगों के विनाश की शक्ति वाले गरुड़ देवता हमारे लिए कल्याणकारी सिद्ध हों; बुद्धि के स्वामी वृहस्पति हमारे कल्याण की पुष्टि करें ।)

इस प्रार्थना में मानव जाति के सर्वांगीण कल्याण के विचार निहित हैं । उक्त मंत्र में अमूर्त शक्तियों का आवाहन किया गया है । मंत्र में इंद्रदेवता, पूषादेवता, गरुणदेवता एवं वृहस्पतिदेवता का उल्लेख है । वैदिक चिन्तकों की दृष्टि में प्राणियों में जीवात्मा का निवास तो रहता ही है, निर्जीव तंत्रों के पीछे भी अधिष्ठाता देवता रहते हैं । ये अमूर्त शक्तियां हैं जो मानव जीवन को नियंत्रित या प्रभावित करती हैं । मेरे लिए इस प्रकार का चिंतन रहस्यमय है । मैं नहीं समझ पाया हूं कि इंद्रादि शक्तियों का वास्तव में कोई अस्तित्व है भी क्या । आस्थावानों के लिए वे हैं और दूसरों के लिए नहीं ।

सत्य क्या है, यह समझ में न भी आवे तो भी इस तथा इसके सदृश प्रार्थनाओं की अपनी सार्थकता है यह मैं अवश्य मानता हूं । यदि अदृश्य तथा अमूर्त शक्तियों हैं तो वे हमें कल्याण की ओर प्रेरित करेंगी यह आशा मन में जागती है । किंतु वे न भी हों तो भी कल्याणप्रद विचारों का बारंबार का मनन अवश्य ही मनुष्य के व्यक्तित्व में सार्थक परिवर्तन लायेगा यह सोचा जा सकता है । सद्विचार किसी भी बहाने मन में जगें, वे कल्याणकारी ही सिद्ध होंगे ऐसा मेरा मत है । – योगेन्द्र

1 टिप्पणी (+add yours?)

  1. Pd mishra
    अप्रैल 16, 2014 @ 12:40:52

    सर्वे भवन्तु सुखिनः – कहाँ मिलता है?

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: